संदेश

April, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं
चित्र
चित्र

मजबूरियों के शोर में

चित्र
राजीव रंजन

चंद सिक्‍कों की खनक में
सुनाई नहीं देती
दूर बैठे अपनों की सदा
मजबूरियों के शोर में
दब जाती हैं सब आवाजें
आत्‍मा की भी
ईमान की भी