संदेश

August, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

उसकी याद आती रही

राजीव रंजन
याद नहीं करता उसे
फिर भी याद आ जाता है
मैं तो समझा था
किताब में लिखा सबक है बस
याद करने पे ही याद आएगा
वो तो ज़िन्दगी की किताब निकला।

जब हैरी मेट सेजल: नई बोतल में प्रेम कहानी की पुरानी शराब

चित्र
2 स्टार
कलाकार: शाहरुख़ खान, अनुष्का शर्मा
लेखक व निर्देशक: इम्तियाज़ अली
सिनेमेटोग्राफी: के. यू. मोहनन
निर्माता: गौरी खान


'जब हैरी मेट सेजल' फिल्म के नाम और इम्तियाज अली, फिल्म के निर्देशक के नाम से यह तय-सा था कि यह भी एक प्रेम कहानी होगी। यहां तक तो कोई समस्या नहीं है। उम्मीद थी कि इम्तियाज यह प्रेम कहानी एक अलग अंदाज में परोसेंगे, जिसके लिए वह जाने जाते हैं। समस्या यहीं से शुरू होती है। यह फिल्म इम्तियाज की बहुत कम (बल्कि न के बराबर) और यशराज व धर्मा के स्टाइल की ज्यादा लगती है।

फिल्म की कहानी एम्स्टर्डम से शुरू होती है। हैरी (शाहरुख खान) एक टूर गाइड है। वह गुजरात के एक हीरा व्यापारी के परिवार को यूरोप के विभिन्न देशों में घुमाता है। सेजल (अनुष्का शर्मा) उसी हीरा व्यापारी की बेटी है, जिसकी सगाई इसी टूर के दौरान एम्सटर्डम में होती है। उसकी सगाई की अंगूठी कहीं खो जाती है, जिसके चलते मंगेतर से उसका झगड़ा हो जाता है। वह अंगूठी ढूंढने के लिए रुक जाती है और हैरी को अपने साथ चलने के लिए मजबूर कर देती है। हैरी को मजबूरन उसका साथ देना पड़ता है। इस खोज के दौरान दोनों की मनोस्थिति और उन…