मजबूरियों के शोर में


राजीव रंजन

चंद सिक्‍कों की खनक में
सुनाई नहीं देती
दूर बैठे अपनों की सदा
मजबूरियों के शोर में
दब जाती हैं सब आवाजें
आत्‍मा की भी
ईमान की भी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बहुत प्यारा सा है ये जग्गा जासूस

मैम से मॉम का सफर और प्रतिशोध

विश्वास की जीत की कहानी