मजबूरियों के शोर में


राजीव रंजन

चंद सिक्‍कों की खनक में
सुनाई नहीं देती
दूर बैठे अपनों की सदा
मजबूरियों के शोर में
दब जाती हैं सब आवाजें
आत्‍मा की भी
ईमान की भी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

If you call me

रोमांस और कॉमेडी में पगी बरेली की बर्फी

सेठ गोविंद दास: हिंदी को राजभाषा का दर्जा देने के बड़े पैरोकार