एक बुल्गारियन कविता

एक पेड़ था
जिस पर सूरज रहा करता था
वो कुल्हाडे से काट दिया गया
और उसका का कागज़ बना लिया गया
अब उसी कागज़ पर
मैं उस पेड़ की गाथा लिख रही हूँ
जिस पर कभी सूरज का कयाम था...
(बुल्गारियन शायरा ब्लागा दिमित्रोवा की नज्म )

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बहुत प्यारा सा है ये जग्गा जासूस

मैम से मॉम का सफर और प्रतिशोध

विश्वास की जीत की कहानी