शून्य

राजीव रंजन
जाड़े की सर्द हवा
दरवाजों पर दस्तक देती है ऐसे
जैसे कोई हलके हाथों से
दरवाजा खटखटा रहा हो
उठता हूँ सिगरेट की राख झाडते हुए
दरवाजा खोलता हूँ लेकिन
कुछ भी दिखाई नहीं देता
हवा भी नहीं
सिर्फ महसूस होती है उसकी चुभन
और दिखता है केवल सिगरेट का खाली धुआं.
फिर मैं झाड़ देता हूँ
सिगरेट की बची राख.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

If you call me

मैम से मॉम का सफर और प्रतिशोध

बहुत प्यारा सा है ये जग्गा जासूस