शून्य

राजीव रंजन
जाड़े की सर्द हवा
दरवाजों पर दस्तक देती है ऐसे
जैसे कोई हलके हाथों से
दरवाजा खटखटा रहा हो
उठता हूँ सिगरेट की राख झाडते हुए
दरवाजा खोलता हूँ लेकिन
कुछ भी दिखाई नहीं देता
हवा भी नहीं
सिर्फ महसूस होती है उसकी चुभन
और दिखता है केवल सिगरेट का खाली धुआं.
फिर मैं झाड़ देता हूँ
सिगरेट की बची राख.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बहुत प्यारा सा है ये जग्गा जासूस

मैम से मॉम का सफर और प्रतिशोध

विश्वास की जीत की कहानी